हिंदू धर्म में भगवान श्रीगणेश को प्रसन्न करने के कई व्रत-त्योहार मनाए जाते हैं। 

इन सभी में गणेश चतुर्थी का पर्व सबसे खास है। 

ये पर्व भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। 

पहले ये उत्सव सिर्फ 1 ही दिन मनाया जाता है। बहुत कम लोग ये बात जानते हैं 

जब अंग्रेज भारत आए तो उन्होंने पेशवाओं के राज्य पर अधिकार कर लिया। 

इस वजह से गणेश उत्सव की भव्यता में कमी आने लगी। 

इसी विचार के साथ लोकमान्य तिलक ने पूना में सन् 1893 में सार्वजनिक गणेशोत्सव की शुरूआत की।  

और ये तय किया कि गणेश उत्सव सिर्फ 1 दिन न मनाकर 10 दिन मनाया जाए। सभी लोगों ने इसका समर्थन किया। इस तरह गणेश उत्सव 10 दिन मनाने की परंपरा शुरू हुई। 

हर रोज नए सरकारी नौकरी के बारे में अपडेट पाने के लिए Click here के बटन को दबाएं