Padhai Me Man Kaise Lagaye | How to concentrate on studies 100%

Padhai me man kaise lagaye: पढ़ाई में मन कैसे लगाये? ऐसा सवाल वही लोग करते हैं, जो अपने पढ़ाई को लेकर कॉफ़ी गंभीर होते हैं, जो और भी मन से पढ़ना चाहते हैं। इसलिए उनके मन में यह सवाल उठता है, की पढ़ाई में और अच्छे से मन कैसे लगाएं तो यदि आप इस सवाल का जवाब ढूंढ रहे हैं, तो आपको यहां पर मिलेगा इसका 100% सटीक जवाब इसको पढ़ने के बाद आप आज से ही मन लगाकर खूब पढ़ेंगे यह मेरा 100% दावा है, और आपको मजा भी आएगा।

Table of Contents

Padhai. पढ़ाई में मन न लगने का कारण क्या है

पहले हम ये जाने की वो कौन कौन सी आदतें और चीजें है जो हमे पढ़ाई से दूर ले जाती है। आज के समय में मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करूं मन ना लगने के यह निम्न पांच कारण होते हैं

  • सोशल मीडिया
  • ग़लत संगति
  • घर मे पढ़ाई का माहौल
  • पढ़ाई में कमजोर
  • पड़ने का मन नही

सोशल मीडिया का क्या असर पड़ता है पढ़ाई पर

दोस्तों आज के समय में सोशल मीडिया सभी के लिए एक सुविधा भी है। और इसके कई सारे नुकसान भी हैं।

जैसे कि यदि आप कोई भी सोशल मीडिया ऐप खोलते हैं। तो आपका उसमें कितना समय खर्च हो जाता है। आपको पता ही नहीं चलता। आप यह अंदाजा लगा सकते हैं।

कि यदि आप शॉर्ट वीडियो किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आप देखते हैं तो आप कितना ज्यादा समय खर्च करते हैं वह कमेंट सेक्शन में लिखकर जरूर बताइएगा।

सोशल मीडिया से दूरी

यदि आप सोशल मीडिया का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं अपनी पढ़ाई किस समय में तो आप को सोशल मीडिया से आपको दूरी बनाना है यदि आप पढ़ाई के लिए सोशल मीडिया यूज नहीं करते हैं तो क्योंकि आज के समय में ऑनलाइन पढ़ाई ज्यादा चल रही है इसलिए सोशल मीडिया से आपको जुड़ा तो रहना ही पड़ेगा।

इसका उपाय यही है कि आप अपनी पढ़ाई के अलावा अन्य सोशल मीडिया एप्लीकेशन के लिए समय का निर्धारण करें कि कौन से ऐप को कितना देर तक हमें यूज करना है। और यदि आपके मोबाइल में कोई अन्य ऐसा ऐप है जिस पर आप सिर्फ टाइम पास ही करते हैं तो उसको तो हटा ही देना बेहतर होगा।

गलत संगति का क्या असर होता है

गलत संगति का असर का मतलब यह होता है कि आप उन लोगों के साथ रहते हैं जब बिल्कुल निठल्ले और निकम्मे लोग होते हैं जिनको अपने घर परिवार अपने पढ़ाई लिखाई से कोई मतलब नहीं होता वह दिन भर जुआ और तमाम कई प्रकार के बेवजह काम करते हैं जिनका उनसे उनका कोई लेना देना नहीं होता।

यहां पर कहने का मतलब साफ है कि आपकी जैसी संगति होगी वैसे ही आप की रंगत भी होगी। इसीलिए आपको अच्छे लोगों के साथ ही दोस्ती करनी चाहिए जो अपनी जिम्मेदारी समझे और यदि वह पढ़ाई कर रहे हैं। तो पढ़ाई में मन उनका भी लगता हो पढ़ने में सही हो।

घर मे पढ़ाई का माहौल का पढ़ाई पर कैसे पड़ता है

घर पर पढ़ाई का माहौल ना होने की वजह से कई छात्रों की पढ़ाई बहुत ही खराब हो जाती है और उनका पढ़ने में घर पर मन भी नहीं लगता या फिर वह पढ़ने में बहुत कमजोर भी हो जाते हैं। तो उनके लिए घर में पढ़ाई का माहौल होना बहुत अनिवार्य होता है और यह चीजें सभी के लिए जरूरी है।

घर में पढ़ाई के माहौल से मतलब यह है कि आपके घर में पढ़े लिखे लोग हैं उनके पास अच्छी चीजों की नॉलेज हो ताकि यदि आप कुछ सवाल करें तो वह अच्छी तरीके से जवाब दे सके।

घर में पढ़ाई का माहौल अगर ना हो तो इसका एक आसान सा उपाय भी है। आप अपने घर से दूर जाकर शहर में जहां पर लोग पढ़ाई करते हैं वहां पर रह कर पढ़ाई कर सकते है।

लेकिन यहां पर आपको सावधानी बरतनी है बाहरी वातावरण से बाहरी वातावरण का मतलब आप बहुत अच्छे से समझ सकते हैं यदि नहीं समझ पा रहे हैं तो कमेंट में हमें लिखकर बताइए।

पढ़ाई में मन नही लगना

कुछ ऐसे भी विद्यार्थी हैं छात्र हैं इनका पढ़ाई में मन अंदर से नहीं लगता है उनको पढ़ने की इच्छा नहीं होती तो वह पढ़ाई नहीं कर सकते अगर आपकी इच्छा शक्ति जिस चीज में नहीं काम करती है वह काम आप ना ही करें तो अच्छा होगा इसलिए यदि आपका जो इच्छा करें आपका इंटरेस्ट जिसमें हो उस काम को पूरे मन से कर लेना चाहिए अगर आपका पढ़ाई में मन क्यों नहीं लगता ह

पड़ने का मन नही

एक पढ़ाई ऐसी होती है जो छात्र के ऊपर टोपी गई पढ़ाई होती है यानी पढ़ाई में मन नही है आपका लेकिन घर वाले आपको जबरन पढ़ाना चाहते है। तो आपका कुछ नही हो सकता हो सकता उस पढ़ाई से। इससे अच्छा होगा कि आप अपने रुचि को पहचानने की कोशिश करे और वो काम करना सुरु कर दे जो आप करना चाहते हो।

पढ़ान चाहते है लेक़िन पढ़ाई में मन नहीं लगता क्या करें

अच्छा कई बार क्या होता है ना कि हम पढ़ना तो चाहते हैं लेकिन हम अपने पढ़ने के टाइमिंग को टालते रहते हैं। और हम ऐसा हमेशा करते ही रहते हैं और पढ़ नहीं पाते हैं तो यह सबसे बड़ी दिक्कत होती है।

इस चीज को लेकर कई बड़े लेखकों ने लिखा है कि हमारा दिमाग जो है। वह हमेशा आराम की चीजों को खोजता है। जिसमें उसे कोई परेशानी ना हो और उसे मजा आता है। और यही वह वजह है, जिसकी वजह से हम अपनी पढ़ाई को टालते जाते हैं, टालते जाते हैं और हमेशा ऐसा करते रहते हैं। और पढ़ने का समय निकलता जाता है और हम पढ़ भी नहीं पाते है।

अपनी पढ़ाई को टालते रहना

क्योंकि आपका दिमाग आपके साथ बहुत ही मीठी तरीके से खेलता रहता है जिसको आप अनजाने में टालते रहते हैं और यही टालते टालते समय काफी गुजर जाता है। फिर बाद में पछतावा होता है लेकिन यदि आप थोड़ा सा ध्यान दें तो आप अपने दिमाग को मात दे सकते हैं।

अपने दिमाग़ को धोखा दो

सब कुछ दिमाग का ही खेल होता है दोस्तों इसलिए आपको आज से ही अपने दिमाग के साथ खेलना है और इस प्रक्रिया को अपनाना है।

तो इसी टालने की आदत को सुधारने के लिए बड़े बड़े लेखकों ने लिखा है। कि हमें पढ़ाई के मामले में कोई भी निर्णय पहले छोटा लेना है। जिसके वजह से हमारा दिमाग उसको समझ भी नहीं पाता है यानी अगर आपको आज 8 घंटे पढ़ना है तो आप एक ही बार अपने दिमाग को यह पता मत चलने दीजिए कि आपको 8 घंटे पढ़ना है।

बल्कि आप अपने को इस तरीके से तैयार करें कि हमें एक घंटा सिर्फ पढ़ना है उसके बाद पढ़ना ही नहीं है। इस तरह से आप अपने दिमाग को धोखा दे देंगे।

2022 के टॉप सरकारी नौकरी

40 दिन लगातार करना

इस प्रक्रिया को आप को कम से कम 40 दिन लगातार करना है। और लेखकों का कहना यह भी है कि किसी भी काम को 40 दिन लगातार करने से वह हमारी आदत में बदल जाती है और इस लगातार प्रैक्टिस से आपका पढ़ने का तरीका और पढ़ने का समय सब कुछ बहुत ही सुचारु ढंग से सुधर जाएगा। जिस तरह आप चाहते हैं।

दोस्तों इस नियम को फॉलो करके दुनियाभर के लाखों करोड़ों लोग जिनका पढ़ाई में मन नहीं लगता था और ऐसे ही वो टालने का काम करते थे। लेकिन जब उन ना पढ़ने वाले लोगों ने इस नियम को फॉलो किया और अपने स्वयं के ऊपर अपनाया।

तो उन्होंने देखा कि उनके अंदर काफी परिवर्तन आया है। जो पहले टालने का काम करते थे। वह अब इस अपने दिमाग की खेल को समझ चुके थे और वह अब पूरी तरह से अपने दिमाग से खेल रहे थे।

बोनस टिप्स:- हम इंसानों का दिमाग हमेशा कम्फर्ट ज़ोन में रहना चाहता है। यानी किसी भी प्रकार का मेहनत का काम करने से कतराता है और जो व्यक्ति अपने दिमाग को मेहनत के कामों में लगा देता है वह इंसान सफलता की राह पर आगे निकल जाता है। यानी आपको अपने आप को कभी भी कम्फर्ट जोन में नहीं रखना चाहिए। सफल होने के लिए।

पढ़ाई के लिए सबसे अच्छा समय क्या है, कितने बजे

पढ़ाई करने के लिए सबसे अच्छा समय जो माना जाता है। वह सुबह का माना जाता है और यह समय अमृत समय होता है क्योंकि इस समय में आपके पास ना ही कोई डिस्टरबेंस होता है और ना ही कोई सोशल मीडिया नोटिफिकेशन।

और अगर आप 3:00 से 4:00 के बीच जागकर अपने पढ़ाई की प्रक्रिया शुरू कर लेते हैं तो यह समय आपके लिए स्वर्णिम समय के रूप में काम करता है आप यह नोटिस करेंगे कि इस समय आपने जो भी चीजें पड़े हैं वह आपके दिमाग में बहुत ही अच्छी तरह से सेव हो जाती है आपको दिनभर की कोई भी मानसिक तनाव नहीं होता है और ना ही कोई पहले से ठानी हुई चीजें।

सुबह में पढ़ाई करते समय आपका दिमाग बिल्कुल फ्रेश होता है और दिन भर का कोई भी तनाव नहीं होता क्योंकि दिन का शुरुआत तो हुआ ही नहीं रहता है इसीलिए सुबह का समय 3:00 से 4:00 बजे के बाद आप अपने पढ़ाई को करना शुरू कर सकते हैं जिससे आपको अपने पढ़ाई में कमाल का फायदा मिलेगा।

पढ़ाई में मन कैसे लगाये? 85% आपके सवाल

यदि आप अपने पढ़ाई को लेकर सच मे सीरियस है तो आप इसे अंत तक जरूर पढ़िए आपको ऐसी नॉलेज कभी भी और कहि पर नही मिली होगी। जिससे आज के बाद आपके पढ़ाई का पूरा सिस्टम ही बदल जायेगा।

दोस्तों आज के आधुनिक युग में लगभग 85% छात्रों के यह सवाल होते हैं कि पढ़ाई में मन कैसे लगाये कि वह जो भी चीजें पढ़ें उनको एक से दो बार में वह कभी ना भूले। लेकिन हमें कोई भी चीज पढ़ें 5 दिन के बाद लगभग उसमें से 30% ही याद रह पाता है, और इसका मतलब साफ है कि आपका पढ़ाई में 10% भी मन नहीं लगता।

पढ़ाई करने का सबसे अच्छा तरीका

इसलिए हम आपको बतायेंगे दुनिया के बेहतरीन लेखकों के द्वारा लिखी गई सैकड़ों किताबों के निचोड़ से, जिसमें बताया गया है, कि कोई भी छात्र या कोई भी पढ़ने वाला व्यक्ति पढने में अपने रुचि को कैसे बढ़ाये(How to concentrate in studys)

दोस्तों पढ़ने वाले छात्र एक से एक है, जो एक ही बार के बैठे लगभग आठ 8 घंटे की पढ़ाई करते हैं, लेकिन क्या आप भी इन्हीं में से हैं, यह हमें कमेंट में लिखकर जरूर बताइएगा, क्योंकि हम आपको यह कभी नहीं कहेंगे कि आप लगातार आठ से 10 घंटे बैठकर पढ़ाई कीजिए।

क्योंकि दुनिया की बेहतरीन लेखकों ने लिखा है कि अगर हमें किसी भी चीज को पढ़ने में रुचि दिखाना है, या फिर उसे एक बेहतरीन तरीके से पढ़ना है या फिर सीखना है तो हमें उसके थोड़े थोड़े भाग में पढ़ना या फिर सीखना चाहिए।

No.3 पढ़ाई में मन लगाने का सही तरीका

आपको पढ़ने का इससे बेहतरीन तरीका दुनिया भर में नहीं मिलेंगे क्योंकि यह बड़े-बड़े विद्वानों ने सिद्ध किया है, जिनका मन कभी पढ़ने में 1% भी नहीं लगता था। उन्होंने इस तरीके को अपनाकर पूरी दुनिया में इतिहास रच दिया।

अगर हम कहें तो यह दुनिया के सबसे बेहतरीन पढ़ने के तरीकों में से एक तरीका माना जाता है, और जिस किसी छात्र ने इस नियम को फॉलो कर लिया वह 100% अपनी सफलता की ओर बढ़ जाएगा और पढ़ने में इतना मन लगेगा कि वह किताब को छोड़ी नहीं पाएगा।

पढ़ाई में फ़ोकस कैसे करें

पढ़ने बैठने से पहले सबसे जरूरी बात की आप अपने मोबाइल फ़ोन को अपने आप से दूर रखें जिससे कि आपको मोबाइल से कोई डिस्टरवेन्स न हो (यदि आप ऑनलाइन पढ़ाई नही कर रहें है तो) या फिर जब भी आप पढ़ने बैठे मोबाइल फ़ोन के सारे नोटिफिकेशन को ऑफ कर देवे।

how to concentrate on studies
How to concentrate on studies

क्योकि आज कल न सबसे बड़ी दिक्कत जो हैं, वह है छात्रों के पढ़ाई का सही और सटीक जरिया। वही सबसे बड़ा समस्या भी बन जा रहा हैं। जो आप को भली भांति पता है, मोबाइल और मोबाइल के अंदर सोशल मीडिया ये है। दुनियां का सबसे बड़ा समस्या भी और समाधान भी। लेकिन सबसे ज्यादा समस्या ही बनता है।

इसी लिए अगर आप ऑनलाइन पढ़ाई नही कर रहे है। तो आप न अपने लिए एक सादा फ़ोन का इस्तेमाल करें जब तक आप तैयारी कर रहे है पढ़ाई की या फिर परीक्षा की। गजब का इसका आपको फायदा मिलेगा अगर आप सोशल मीडिया से दूरी बना लिए तो।

पढ़ाई में फ़ोकस कैसे करें

No.2 पढ़ने का सबसे बेहतरीन तरीका

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं और पढ़ने का सबसे बेहतरीन तरीका यदि आप मन लगाकर पढ़ना चाहते हैं, तो आपको कभी नहीं सोचना चाहिए कि हमें आज 8 घंटे लगातार पढ़ना है।

क्योंकि किसी भी व्यक्ति का ध्यान 45 से 50 मिनट तक की एक जगह केंद्रित रह सकता है, तो आपको जब भी पढ़ने बैठना है, तो सिर्फ 50 मिनट के लिए बैठना है और आपको अपने दिमाग को बिल्कुल शांत करके पढ़ना है, उसके बाद आपको थोड़ा टहल लेना है, या फिर थोड़ा रेस्ट लेना है।

उस टहलते और रेस्ट लेते वक्त आपने जो भी चीज ही पढ़ी है, उसको माइंड में रिपीट कर लेना है, फिर आपने जो भी चीज पड़ी होगी 50 मिनट में वह सिर्फ 5 से 10 मिनट के अंदर पूरी तरह से रिवीजन हो जाएगा। और टहलने और थोड़ा रेस्ट लेने के बाद आपको काफी रिलैक्स भी फील होगा।

जिसके बाद आप दुबारा 45 से 50 मिनट के लिए मन लगाकर पढ़ने बैठ सकते हैं। और ऐसे आप दिन भर में 6 से 8 दफा कर सकते हैं, जिससे आपका पढ़ाई में कंसंट्रेशन बना रहेगा और आप जो भी पड़ेंगे वह आपके माइंड में अच्छे से सेव होता जाएगा।

No.1 पढ़ाई में मन कैसे लगाए दुनियां का सबसे बेहतरीन तरीका

मित्रों अगर आपने इस लेख को यहाँ तक ध्यान से पड़ते आये है और सभी छोटी बड़ी बरीकियो को समझे है तो उसका फायदा आपको यह मिलेगा की अब आपको असल मे अपने पढ़ाई को कैसे एक नया दिशा दे और पढ़ाई में मन कैसे लगाए।

स्टेप.1

सबसे पहले अपना आपको लक्ष्य (Vision) निर्धारित करना है। कि जो आप पढ़ाई कर रहे है उसका मकसद क्या है उसका उद्देश्य क्या है, क्योंकि की आपको यही डिसीजन इस नई दिशा की ओर ले जाएगा।

स्टेप.2

सबसे पहले आप ये पता करें कि आपके पढ़ने का कारण क्या है आपको कारण पता लगते ही काफी कुछ क्लियर हो जाएगा कि आखिरकार आप पढ़ क्यों हैं। क्योंकि बहुत लोगों की पढ़ाई नाम रोशन करने के लिए पढ़ते हैं कोई गोल्ड मेडल लाने के लिए पड़ता है।

कोई अपने राज्य में टॉप करना चाहता है कोई अपने जिले में टॉप करना चाहता है कोई अपने स्कूल में टॉप करना चाहता है कोई अपने क्लास में फर्स्ट रैंक लाना चाहता है। तो यहां पर उसके पास एक रीजन है यानी उसके पास यह कारण है कि वह यह काम करना चाहता है फर्स्ट आना चाहता है।

तो आपके पास भी पढ़ने का कारण पता होना चाहिए। कि आप आईएएस बनना चाहते हैं इंजीनियर बनना चाहते हैं डॉक्टर बनना चाहते हैं वगैरा वगैरा।

स्टेप.3

अब आपने लक्ष्य डिसाइड कर लिया है कि आपको पढ़ना किस लिए है लेकिन यहां पर लोग क्या गलती करते हैं। कि वह यह ठान लेते हैं कि आज से मैं 5 घंटे या 8 घंटे हर रोज पढ़ूँगा। और वह इसे एक चैलेंज ऐसे ले लेते हैं, जैसे कि मानो गुलाब जामुन है की एक ही बार मे ख़तम।

फिर उनके साथ यही सबसे बुरा चैलेंज साबित होता है जो की आप कभी नहीं पूरा कर पाते ऐसे में आपको क्या करना है हम आपको बताएंगे। और आपको पढ़ाई करने में मजा भी आने लगेगा।

स्टेप.4

यकीन मानिए यदि आपने इस नियम को फॉलो किया तो आप आज से कुछ दिन बाद यानी लगभग 30 से 40 दिन बाद 5 से 8 घंटे पढ़ना शुरू कर देंगे या फिर आप कोई भी काम करना चाहते हैं तो आप उसे पूरे मन से और पूरे टाइम देकर करना शुरू कर देंगें।

नियमित आदतें

दरसल इस लेख के असली चीज को हम अब समझेंगे क्योंकि अभी तो हमने जाना कि उन तरीको से मन लगाकर पढ़ा जा सकता है।

तो क्या आप आज से 8 घण्टे पढ़ पाओगे आपका जवाब होगा कि नही। क्योंकि उन तरीको से पढ़ने के लिए अपने अंदर आपको उस तरीके को अपनाना होगा और ये सब कैसे होगा नियमित आदतों से (Regular Habits).

पढ़ाई की आदत (Habit) कैसे डाले

दरसल हम एक ही बार मे ठान लेते है, की आज से रोज 8 घण्टे पढूंगा। तो भैया इसका सीधा संदेश आपके कॉन्शियस माइंड पर जाता है। जिसको ये दुख झेलने की ताकत ही नही होती है। तब और क्या सब धरा का धरा ही रह जाता है। आप 8 घण्टे क्या 1 घण्टे नही पढ़ते तब आप टालते हो कि कल से पढेंगे पक्का। इसके लिए आपको क्या चाहिए आदत (Habits)

क्या आप पढ़ाई टालते हो तो कमेंट करके जरूर बताएं हमे।

आप ने कभी सोचा है कि एक पहलवान 200KG का भार एक ही बार मे कैसे उठा लेता है। क्योकि वह पहले 5 Kg का उठाया होगा, और इसमें वह धीरे-धीरे करके वजन को बढ़ाते गया जिससे उसका कॉन्फिडेंस और ताकत से साथ आदत (Habit) भी बन गया। जिससे कि वह अब 200KG का भार कभी भी और कहि पर उठा सकता है।

अब आपको इस बताये गए नियम को फ़ॉलो करना है। यकीन मानिए ये बिल्कुल आसान है। क्योंकि आपको शिर्फ़ 2 मिनट पढ़ाई करने है। जी है अपने सही पढ़ा शिर्फ़ 2 मिनट।

यह 2 मिनट आपको 5 से 8 घण्टे में कब आपके समय को बदल देगा आपको पता भी नही चलेगा और आप सोच के हैरान हो जाओगे।

2 मिनट रूल (2 Minutes Stap)

अगर आप ध्यान से समझे तो नीचे आपको एक इमेज में दिखाया गया है कि कैसे यह 2 मिनट रुल आपके पढ़ाई में काम करेगा।

पढ़ाई में मन कैसे लगाये

इस रूल को फॉलो करने के लिए आपको एक चीज ठाननी होगी कि आपको यह 2 मिनट नियम हर रोज करना होगा और वह कोई बड़ा काम नहीं है। आपको सिर्फ 2 मिनट डेली पढ़ना शुरू कर देना है और कभी भी आप इसमें नागा नहीं करेंगे।

ये नियम सभी कामो में ठीक इसी तरह काम करता है चाहे वो पढ़ाई हो या बिजेनस, या फिऱ जो भी आप करते है।

इस नियम को अंग्रेजी में (2 Minutes Version) कहा जाता है। मतलब आप जो भी कम सुरु कर रहे उसके सबसे छोटे भाग से सुरु कर अन्तः सबसे बड़े भाग को प्राप्त कर लेंगे।

2 मिनट नियम कैसे फॉलो करें

इस नियम को कुछ इस तरह से फ़ॉलो करें!

  1. यदि आप पढ़ना चाहते है, तो सबसे पहले 2 मिनट अपने किताब को नियमित रोज खोलें चाहे उसे आप पढ़े या न पढ़े लेकिन 2 मिनट के लिए रोज खोले। ऐसे ही आपको अपने उन सभी कामो को करना है जिसमे आपका बिल्कुल मन नही लगता।
  2. यदि आप जिम जाना है तो आप सुबह उठिए और अपने 2 मिनटके आप जिम के लिए तैयार हो जाये। भले ही जी। करने न जाये।
  3. आप जक भी करना चाहते है उसमें इस नियम को नियमित फॉलो करें।
  4. कुछ दिन बाद यानी 1 सप्ताह बाद आप खुद 2 मिनट से ज्यादा समय उसमे देने लगेंगे जिसमे आप अपना मन ज्यादा लगाना चाहते है।

40 दिन नियमित करें पढ़ाई

इस नियम को 40 से 90 दिन तक फ़ॉलो करना है, ये 2 मिनट आपके सबकॉन्सियस माइंड में सूचना देता है। जो बाद में कॉन्शियस माइंड में भेजना सुरु करता है कि भाई इसे भी आदत बना लो। और धीरे धीरे ये आपके जबरदस्त आदतों में बदल जायेगा।

जैसे कि आप सुबह जगने के बाद ब्रश करते हो और बिना ब्रश किये सुना – सुना मुँह साफ नही लगता ठीक वैसे ही आपको बिना 5 घण्टे पढ़े कभी भी अच्छा नही लगेगा।

2 मिनट के इस रूल में आप ख़ुद समय बढ़ाने लगेगें की थोड़ा और थोड़ा और ठीक इसी नियम से आप अपने पढ़ाई में मन लगा सकते है। मित्रो ये नियम दुनियां के हर सफ़ल व्यक्ति का मूल मंत्र (Regularity & Habits) होता हैं।

क्योंकि यह बात श्री मद्भागवत गीता में लिखा है कि अगर आप हर रोज 1% कुछ अच्छा करते है तो एक साल बाद उसमे आप 3800% उस काम में आगे होते है।

सारांश:- इस लेख में हमने बताया है कि आप अपने पढ़ाई में मन कैसे लगा सकते हैं और कैसे अपने आसपास के डिस्ट्रेक्शन से बच सकते हैं। जिससे कि आपके पढ़ाई में और भी मन लगे और कैसे अपने पढ़ने की इच्छा को एक आदत में बदल सकते हैं। जिससे आप अपने पढ़ाई के मिशन में आगे बढ़ सके अगर यह पोस्ट आपको अच्छा लगे और हेल्पफुल लगे तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिएगा।

IMPORTANT:- 👇👇👇👇

और हा मैं आपको यह भी जानकारी दे दु की यदि आप ऐसे सभी भर्ती,जॉब,एडमिट कार्ड, जैसी सभी सेवाओं का लाभ भविष्य में चाहते है, तो हमारे Telegram को अभी join कर लिजिए। धन्यवाद!

Join our TelegramJoin now
Join our WhatsApp Group Join now

ये भी पढ़े:- 👇👇👇

Latest Government JobsAnswer key
Government jobs SyllabusLatest Gk Question 2022 in Hindi

अक्सर पूछें जाने वाले सवाल:-

पढ़ाई में मन लगाने का मंत्र?

पढ़ाई में मन लगाने का मूल मंत्र है। नियमित पढ़ते रहना और विश्वास अपने आप पर रखना। क्योंकि आज के समय पर लोग एक काले धागे, लाल धागे, माला, तावीज पर तो विश्वास आसानी से कर लेते है। लेकिन अपने आप पर नही विश्वास कर पाते इसी लिए आपको पूरा लेख हम पढ़ने को कहेंगे।

पढ़ाई के लिए सबसे अच्छा समय क्या है?

वैसे तो पढ़ाई किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन सुबह का समय सबसे अच्छा समय इस लिए माना जाता है क्योंकि दिन भर की कोई भी चिंता नही होती है, और वो इस लिए की दिन की सुरुआत ही नही हुई होती है।

पढ़ाई में मन लगाने के योगा?

पढ़ाई में मन लगाने के योगा की बात करे तो आप सुबह में कोई भी एक साधन जैसे योग अभ्यास कर सकते है। जो आपके दिमाग़ को दिन भर फ्रेस रखता है।

पढ़ाई में ध्यान कैसे लगायें?

पढ़ाई में ध्यान लगाने के लिए अपने पास से ध्यानभंग वाले वस्तु को दूर रखें जैसे मोबाइल, TV, इत्यादि। डिस्ट्रक्शन से बचे।

Leave a Comment